• भागवत पीयुष, परम श्रद्धेय स्वामी श्री दीनदयालु जी महाराज

    अनन्तश्री विभूषित श्री स्वामी करपात्री जी महाराज के विशेष कृपापात्र शिष्य परम पुज्यपाद भागवत भूषण, स्वामी श्रीदीनदयालुजी महाराज का प्रादुर्भाव मध्यप्रदेश के जबलपुर जिले के आदिवासी क्षेत्र में हुआ । अपने बाल्यकाल में आप पर पूर्वजों के सर्वहितवादी एवं आध्यात्मिक विचारधाराओं का प्रभाव पड़ा जो प्रतिफल आपके कार्यो के माध्यम से परिलक्षित होते हैं । विगत वर्षो के अपने जीवनकाल में आपने मुख्यत: जबलपुर काशी व वृन्दावन में विभिन्न धार्मिक एवं साहित्यिक ग्रंथो का गहन व विश्लेष्णात्मक अध्ययन किया है ।

    Read more..

Practice Areas